इलेकट्रॉनिक्स समान का झांसा देकर की ठगी

पीड़ित का फोन नहीं उठाने पर हुआ ठगी का अहसास

0
239

मामला थाना मंडावर का है जहां पर कोरोना ने विश्व की आर्थिक कमर तोड़ दी है वही पर कुछ लोग मौके की तलाश है यही देखने को मिला थाना मंडावर क्षेत्र मे , देवेंद्र कुमार निवासी शिमला कला जिला बिजनौर थाना मंडावर का निवासी है जो मंडावर में अपना बैंक ऑफ बड़ौदा का सीएसपी चलाता था उसके पास विनोद शर्मा निवासी बंबा बायपास ग्रहम कॉलोनी मेरठ एवं सुभाष ठाकुर मेरे पास आये  जिसकी सुभाष ठाकुर  से 2011 से जान पहचान थी विनोद शर्मा ने देवेन्द्र को  बताया कि मैंने हिंडोन सेल्स कारपोरेशन के नाम से एक कंपनी की शुरुआत की है उसने देवेन्द्र को  उसके सारे दस्तावेज भी दिखाएं और कहा कि आप इसमें काम कर लो मेरे को डायरेक्ट कंपनी से इलेक्ट्रॉनिक सामान 75 प्रतिशत तक छूट मे  मिलता है जैसे मोबाइल लैपटॉप एलइडी टीवी फ्रिज वाशिंग मशीन आदि जिस पर मुझे 75 प्रतिशत  तक का मार्जिन होता है और यह सामान मुझे 20 से 25% में मिल जाता है इस कंपनी में मेरा सामान बिकवाओ या कुछ लोगों का पैसा निवेश करवा दो । मै उनका पैसा डबल कर के दे दूंगा उस पैसे से मैं सामान लाकर उसको बेचकर लोगों का पैसा भी प्रॉफिट के साथ दूंगा और आपको कमीशन मिलेगा । मेरे को केवल एक या 2 महीने के लिए पैसा चाहिए फिर मेरा काम सही से चल जाएगा । देवेन्द्र की मुलाक़ात इसी बीच सीएसपी पर हितेश पुत्र राजाराम निवासी ग्राम खानपुर माधव तिमरपुर थाना मंडावर बिजनौर से हुई तथा हितेश को इस प्रोजेक्ट के बारे में बताया तथा हितेश ने  10 प्रतिशत कमीशन पर निवेश किया।  हितेश ने  इस प्रोजेक्ट में अपने लाखो रुपए निवेश किए । हितेश ने  यह पैसे देवेंद्र के खाते में ट्रांसफर कर दिये । हितेश के कहने के बाद यह समस्त  धनराशि देवेंद्र ने विनोद शर्मा को अपने सीएसपी मंडावर में नगद दी थी इस समय किसी काम से मुकेश कुमार जी भी  आए हुए थे जिनके सामने यह धनराशि देवेन्द्र ने  विनोद को दी थी । सुभाष ठाकुर निवासी रामराज ने भी इसमें कुछ पैसे निवेश किए थे।  उसके बाद विनोद का यह प्रोजेक्ट कुछ समय बाद ही फेल हो गया और विनोद ने अपनी कंपनी बंद कर दी थी । हितेश के द्वारा एवं देवेन्द्र  के द्वारा निवेश की गई धनराशि अभी तक नहीं लौट आई है और ना ही उन्होंने हमें कोई प्रोडक्ट दिया है जब भी हम इनको कॉल करते हैं या उनके निवास स्थान पर मिले हैं तो यह 10 20 दिन का समय मांग लेते हैं समय मांगते मांगते आज लगभग डेढ़ साल हो गया। देवेन्द्र  अनेक बार विनोद शर्मा के निवास स्थान ग्राहम  कॉलोनी पर भी मिलने गया जिससे वहां पर केवल विनोद शर्मा के बच्चे ही मिलते हैं और वे बताते हैं कि पिताजी बहुत कम घर आते हैं और उन्होंने अपना मोबाइल नंबर भी कई बार बदल लिया है और अब कॉल भी नहीं उठा रहे हैं परंतु अभी तक कोई धनराशि वापस नहीं की । हितेश कुमार की धनराशि वापस ना होने की वजह से हितेश कुमार एवं हितेश के पिताजी श्री राजाराम प्रार्थी को तंग करते है । देवेन्द्र  ने अपनी दुकान का सारा सामान बेचकर लगभग ढाई लाख रुपए हितेश को वापस कर दिए है । जिस से प्रार्थी पूर्ण रूप से बेरोजगार हो चुका है तथा हितेश , हितेश के पिताजी राजराम प्रार्थी के घर आकर रोज प्रार्थी की बेइज्जती करते हैं तथा देवेन्द्र के घर आकर आत्महत्या करने की धमकी भी देते हैं जिससे शिकायतकर्ता  का जीना दूभर हो गया है हितेश के पिताजी ने बताया कि वह हार्ट के पेशेंट है अगर वह किसी कारण से कुछ हो गया तो वह देवेन्द्र  की जिंदगी खराब करने की धमकी भी देते हैं साथ ही प्रार्थी को झूठे मुकदमे में फंसाने की धमकी भी देते हैं तथा देवेन्द्र  के निवास पर भी अवैध रूप से कब्जा करने की फिराक मे लगे हुए है ।  शिकायत कर्ता  बहुत परेशान हैं शिकायत कर्ता  को हितेश एवं उनके पिताजी से अपनी जान माल का खतरा बना हुआ है शिकायत कर्ता  का जीना हराम कर रखा है  व्हाट्सएप पर भी गलत अभद्र गालियां भेजते रहते हैं। अब विनोद शर्मा को फोन कॉल भी नही लग रही है अब शिकायत कर्ता  को ठगी का अहसास हुआ तभी शिकायत कर्ता ने पुलिस अधीक्षक बिजनौर , मेरठ एवं कुछ वरिष्ठ अधिकारियों को ट्विटर भी किया एवं शिकायती पत्र दिया । तथा गुहार लगाई की उचित कानूनी कार्यवाही कर विनोद शर्मा को दी हुई हितेश की धनराशि वापस दिलाने का कष्ट करें तथा उसकी  की जान माल की सुरक्षा की जाए । अब यह देखना है कि पीड़ित को न्याय मिलता है या नहीं ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here