आम आदमी पार्टी बिजनौर के कार्यकर्ताओं ने विकास दुबे कांड में बन्द निर्दोष महिलाओं को न्याय दिलाने हेतु महामहिम राज्यपाल को सौंपा ज्ञापन

0
110

बिजनौर आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने ज्ञापन के द्वारा महामहिम राज्यपाल के संज्ञान में लाया है कि कानपुर के विकास दुबे कांड में कई महिलाओं को नियम कानून को ताक रखकर पिछले 10 महीन से जेल में रखा गया है जिसमें प्रमुख नाम नाबालिग खुशी दुबे पत्नी अमर दुबे, अमर दुबे की माँ क्षमा दुबे, विकास दुबे की नौकरानी रेखा अग्निहोत्री व हीरू दुबे की माँ शांति दुबे शामिल हैं। विकास दुबे काण्ड में अमर दुबे का एकाउंटर हुआ था तीन दिन पहले खुशी दुबे से उसकी शादी हुई थी, पुलिस के रिकॉर्ड में खुशी दुबे के विरुद्ध पहले से कोई आपराधिक मामला दर्ज नहीं था, खुशी दुबे नाबालिग है, उसकी गिरफ्तारी के बाद जब मीडिया ने मामले में तूल पकड़ा तो कानपुर के तत्कालीन एसएसपी दिनेश कुमार ने मीडिया में बयान दिया की खुशी दुबे निर्दोष है और उसको रिहा कर दिया जाएगा पिछले 10 महीने से खुशी दुबे जेल में है कई बार उसे अति गंभीर हालत में बाराबंकी व लखनऊ के अस्पतालों में भर्ती कराया गया, उसको खून की उल्टियां हुई, इन घटनाओं से परिवार के लोग डरे और सहमे हुए हैं और उन्हें अपनी बेटी के जीवन की चिंता है कि कहीं जेल में उसके साथ कहीं कोई अनहोनी न हो जाए, उसका जीवन न चला जाए इस मामले में सबसे बड़ा सवाल है कि जब स्वयं तत्कालीन एसएसपी मान चुके है की खुशी दुबे निर्दोष है तो उसे किस आधार पर उसे जेल में रख कर उसका शोषण किया जा रहा है। एवं

जेल में 10 महीने से यातनाएं दी जा रही है।अमर दुबे की माँ क्षमा दुबे पिछले 10 महीने से अमर दुबे की माँ क्षमा दुबे को भी जेल में रखा गया है, पुलिस प्रशासन और सरकार यह बताने में नाकाम है की अमर दुबे की माँ क्षमा दुबे क्यों जेल में बंद है, उनका विकास काण्ड से क्या लेना देना ?
प्राप्त जानकारी के अनुसार रेखा अग्निहोत्री विकास दुबे के घर में काम करने वाली वह महिला है जिसे उसके 2 बच्चों, 7 साल की बेटी व 2.5 साल के बेटे के साथ, जेल में रखा गया है, रेखा अग्निहोत्री के विरुदध भी पुलिस कोई ठोस प्रमाण य साक्ष्य देने में नाकाम रही है, किसी के घर में काम करने वाली 2 बच्चों की माँ अपराधी कैसे हो सकती है? इसका कोई जवाब न तो सरकार के पास है और न ही प्रशासन के पास।
हीरु दुबे की मां शांति दुबे शान्ति दुबे भी पिछले 10 महीनों से जेल में हैं, हीरु दुबे को विकरू काण्ड में अभियुक्त बनाया गया है, होरु दुबे की माँ को किस अपराध में किस आधार पर जेल में रखा गया है. इस सम्बन्ध में पुलिस प्रशासन कोई ठोस प्रमाण नहीं दे पाया है।
उपरोक्त मामलों से यह साफ तौर पर जाहिर हो रहा है की उत्तर प्रदेश में आदित्यनाथ जी की सरकार प्रतिशोध दुर्भावना और नफरत के आधार पर काम कर रही है, इसको लेकर लोगों के मन में भारी कष्ट और रोम है, विशेष तौर से महिलाओं के साथ ऐसा जुर्म, ऐ से जेल भेजना और ऐसी नफरतपूर्ण कार्यवाही ने सबको हिलाकर रख दिया है, इस घटना ने देश के संविधान और कानून की मर्यादा को भी तार तार किया है।आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने करबद्ध प्रार्थना महामहिम राज्यपाल महोदय से अपील की है की आप स्वयं एक महिला होने के नाले महिलाओं के दर्द को भली भाँती समझ सकती है, कृपया इस प्रकरण में तत्काल हस्तक्षेप कर नियम कानून का पालन कराने व उपरोक्त महिलाओं को अतिशीघ्र रिहा करवाने की कृपा करे और निर्दोष महिलाओं को जल्द ही रिहा किया जाए।

ज्ञापन देने में जिला अध्यक्ष राजीव सिंह जिला सचिव देवेन्द्र कुमार जिला प्रवक्ता मुकेश विधान सभा अध्यक्ष बृजेश कुमार शहजाद हरिराम आदि उपस्थित रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here