मध्यप्रदेश

छात्रा से फोन पर अश्लील बात करता था प्रिंसिपल; ऑडियो वायरल हुआ तो मचा हड़कंप, गिरफ्तार

सीधी. मध्य प्रदेश के सीधी जिले में गुरू-शिष्य के रिश्ते को तार-तार करने वाला मामला सामने आया है. जिले के रामपुर नैकिन थाना इलाके हायर सेकंडरी स्कूल के प्रिंसिपल का विवादित ऑडियो वायरल हो रहा है. इसमें प्रिंसिपल कक्षा 12वीं की छात्रा से अश्लील बातचीत कर रहे हैं. ये वीडियो वायरल होते ही हड़कंप मच गया है. इसकी शिकायत जिले के सभी वरिष्ठ अधिकारियों से की गई है. सीधी पुलिस ने आरोपी शिक्षक के खिलाफ मामला दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया है. आगे की कार्रवाई जारी है.

गौरतलब है कि जब छात्रा के परिजनों ने ये ऑडियो सुना तो उनके होश उड़ गए. वे इस मामले की शिकायत करने रीवा जिला मुख्यालय आए. उन्होंने यहां रीवा कमिश्नर सहित सभी वरिष्ठ अधिकारियों को प्रिंसिपल की इस हरकत की शिकायत की. परिजनों ने स्कूल प्रिंसिपल पर गंभीर आरोप लगाए. उनका कहना है कि पिछले कुछ महीने से प्रिंसिपल उनकी बेटी के फोन पर लगातार फोन कर रहा था. इस दौरान उसने उनकी बेटी से अश्लील बातें भी कीं.

बदनामी के डर से चुप था परिवार

बताया जाता है कि इस बात की जानकारी परिजनों को कुछ दिन पहले ही हुई. लेकिन, समाज में बात न फैले और बदनामी के डर से उन्होंने इसकी शिकायत कहीं नहीं की. उन्होंने शिकायत का फैसला तब किया, जब ये ऑडियो वायरल हो गया. इस मामले को एएसपी अंजू लता पटले ने गंभीरता से लिया. उन्होंने इस पर कार्रवाई की और बच्ची के परिजनों की शिकायत पर स्कूल प्रिंसिपल के खिलाफ छेड़छाड़ का मामला दर्ज कराया. उसके बाद आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया.

खबरों छाया हुआ है सीधी जिला

गौरतलब है कि इन दिनों मध्य प्रदेश का सीधी जिला अपराध और मानवाधिकारों के उल्लंघन के मामले में चर्चा का विषय बना हुआ है. इसी महीने की शुरुआत में भी पत्रकारों सहित कुछ लोगों को थाने में अर्धनग्न खड़ा किया गया था. इस मामले पर भी जबरदस्त बवाल मचा था. इस मामले पर पुलिस ने अजीबो-गरीब तर्क दिया था. सिटी कोतवाली थाना प्रभारी मनोज सोनी ने कहा था – पकड़े हुए लोग पूरे नग्न नहीं थे. हम सुरक्षा की दृष्टी से उनको हवालात में अंडरवियर में रखते हैं, जिससे कोई व्यक्ति अपने कपड़ों से खुद को फांसी न लगा ले. सुरक्षा की वजह से हम उनको ऐसे रखते हैं.

Print Friendly, PDF & Email

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Close